चूम चरण मत चोरों के तू – निराला

सामान्य

चूम चरण मत चोरों के तू – निराला
( a kavita poster by ravi kumar, rawatbhata)

कविता पोस्टर - रवि कुमार

०००००

रवि कुमार

20 responses »

  1. निराला जी की इस रचना की जानकारी देने के लिए हृर्दिक आभार।
    लगता है यह रचना उन्होंने अंग्रेजों देश को मुक्त कराने लिए लिखी थी।
    अब देशी अंग्रेजों से पाला पड़ा रहा है…..
    ……………………………
    थू-थू, थू-थू, थू-थू, थू।
    माननीय हैं या डाकू?

    खु़द मनमाना वेतन ले-
    जनता को बाटें आँसू॥

    बापू तुम तो निर्मल थे
    तेरे चेलों में बदबू?

    जनसेवा मुंह में इनके-
    बगलों में कट्टा-चाकू॥

  2. aaadrniy rvi ji bhut khub aapne to kaale gore kaa frq bta diyaa or raavtbhaata men bethe ho fir bhi kota se itni dur jnaab yeh beimaani nhin chlegi milte rhenge baat krte henge aapki lekhni kaa faayda hm uthate rhenge. meraa hindi blog akhtarkhanakela.blogspot he jop akhtar khan akela titl se khulta he . akhtar khan akela kota rajsthan

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s